उसका चेहरा बनकर एक सवाल रह गया। 

  कोई रंग ऐसा नहीं, जितना रंगीन ख़याल रह गया।

               

                          ✒Mahi Kumar

 मुझसे मिलने आना, उसके लिए जुदाई थी।
  उसकी मोहब्बत में, कितनी बेवफाई थी।।

              

                  ✒Mahi Kumar

            नींद, सपने, सिलवटें, सब खो गयी। 

  बिस्तर तन्हाई में रो पड़ा, चादरें सिसक कर सो गयी।।

               

                             ✒Mahi Kumar

      मैं शायरी का दौर हूँ, ग़ज़ल की मैं भोर हूँ।

    मैं सागरो का शोर हूँ, मैं खुद में कोई और हूँ।

 

                    ✒Mahi Kumar

        तेरे संग गुज़ारे, पल नहीं बितते।

     मेरे आज से, तेरे कल नहीं बितते।।

               

                 ✒Mahi Kumar

        मैं कहीं और हूं, तू कही और है।

  मेरे दिल की ड़ोर का, तू दूसरा छोर है।

               

                    ✒Mahi Kumar

  "नशा-ए-मोहब्बत, मुझपर बेअसर सी रही। 

  तुझसे बिछड़कर, ज़िन्दगी बेहतर सी रही।।"

               

                   ✒Mahi Kumar

     क्यों उठाते हो रुख से पर्दा।

 क्यों मेरी नियत खराब करते हो।

 तहलील होकर मेरी जिन्दगी मे यूँ।

 क्यों मुझे पानी से शराब करते हो।

                

               ✒Mahi Kumar

         

                    तहलील (Dissolve, घुलना)

               

 

    जिस पर गुरुर था, वो ही गुजर गया।
    जो आईने में नहीं है, वो किधर गया।।

               

                    ✒Mahi Kumar

Writer Mahi Kumar